Saturday, June 24, 2017

सभ्यता के चाक पर





एक.


धरती के सबसे गहनतम बिन्दु से
सारा धातु खींचकर
सभ्यता की
कोई एक कील बनाने में
पांव में चुभ जाता है जो इतिहास का कांटा,
उसे निकालने में
बूढ़े हो जाते हैं बुद्ध..
कनक बोते नानक
ठिठक कर ठहर जाते हैं और ज़मीन पर बैठ
माथा ठोंकते हैं
सभ्यता के उद्भव पर..
कृष्ण की बांसुरी
बजती है अपनी सबसे फीकी धुन में..
ठीक तभी एक बच्चा झींकता है
और रोटी के तन पर
गाया जाता है भूख का राष्ट्रगान..

________


दो.


नींद पलने दी जाती है
सपनों की बाज़ारी को
छप्पर के पीछे बहती
दूध की नदी शांत रहती है
पूर्व वैदिक काल के ऋषि
उत्तर वैदिक के उत्तरार्ध पर चिंतित हैं
चार में से तीन वेद रच कर
डाल दिये गए हैं सभ्यता की झोली में
एक बूढ़ा किसान दुःखी है
भविष्य में खोदे जाने वाले
मृतकों के टीले पर
जहाँ एक सभ्यता ने किया
दूसरी का तर्पण..
किसी सुबह कोई खोजी
टकरायेगा अपनी फूटी किस्मत यहाँ
और मुस्कुराएगा सोचकर
कि जैसे लोहा को लोहा काटता है,
और कुत्ते को कुत्ता,
वैसे ही इन्सान इन्सान को काट खायेगा..


________


तीन.


सो जाएंगे वो
जिन्हें अंधेरा आंख पर रखकर सोना होता है
चैन से..
जिन्हें सोने के लिए आंख मूंदने की ज़रूरत नहीं
जिनके लिए नज़र मिलाना
नज़र चुरा लेना होता है..

और मैं जागता रहूंगा
उम्र का चौकीदार होकर,
देता रहूंगा पहरा समय की परिधि पर..
मैं मलूँगा सम्बन्धों की राख
मृत हो चुके युगों की पीठ पर,
मुरझाये प्रेम की बातें जब पपड़ाकर झड़ती हैं;
मैं एक हमउम्र ढूंढूंगा
गर्म होकर ठण्डी हुई मिट्टी का..
मैं इंतज़ार करूँगा किसी एक रात
प्रलय की बारिश का,
और चाहूंगा कि इस सृष्टि,
बदल जाएं सभी पूर्व परिभाषाएं..

इस सभ्यता
मैं नहीं चाहूंगा
पशु से मानव हुए मानव के क्रम विकास का
मैं चाहूंगा मनुष्य से मनुष्य के मनुष्य होने को
या चाहूंगा बस उसका पशु ही रहना..


#शून्य


2 comments: